Yamuna Ashtak 2024 : यमुना अष्टक का पाठ करने से होंगे ये फायदे जाने महत्त्व !

By | April 16, 2024
yamunaashtak

Yamuna Ashtak ka Path, Yamuna Ashtak ka Benefits, Yamuna Ashtak hindi me, Yamuna Ashtak ka mahatv, Yamuna Ashtak 2024

यमुना जी पवित्र नदियों में से एक नदी हैं। यमुना नदी को कालंदी नदी भी कहते हैं। यमुना जी मौत के देवता यमराज और शनि देवता की बहन हैं यदि यमुना जी प्रशन्न होती हैं तो उनके भाई भी प्रशन्न होते हैं और जीवन में शांति बनाये रखते हैं। यमुना अष्टक का रोज़ाना पाठ जीवन में सुख शांति प्रदान करता हैं। यमुना जी भगवन श्री कृष्ण की पटरानी जी हैं। यमुना दर्शन जीवन में शांति मिलती हैं।

यमुना अष्टक का पाठ करने के फ़ायदे ( Benefits Of Yamuna Ashtak )

  • यमुना अष्टक का पाठ मनुष्य का मन और चरित्र शुद्ध हो जाता है मन में सम्पूर्ण शांति प्रदान करती हैं।
  • यमुना मैया को पापों का नाश करने वाली हैं। मनुष्य को निर्मल और निष्पाप बना देती है।
  • यमुनाष्टकम् स्तोत्र का पाठ करने से भगवान कृष्ण की कृपा प्राप्त होती है।
  • यमुना स्नान का विशेष महत्त्व भाई दूज के दिन का होता हैं कहा जाता हैं की इस दिन यदि भाई बहन करते हैं तो यमुना जी का विशेष आशीर्वाद मिलता हैं।

यमुना अष्टक का पाठ (Yamuna Ashtak In Hindi )

नमामि यमुनामहं सकल सिद्धि हेतुं मुदा
मुरारि पद पंकज स्फ़ुरदमन्द रेणुत्कटाम ।

तटस्थ नव कानन प्रकटमोद पुष्पाम्बुना
सुरासुरसुपूजित स्मरपितुः श्रियं बिभ्रतीम ॥१॥

कलिन्द गिरि मस्तके पतदमन्दपूरोज्ज्वला
विलासगमनोल्लसत्प्रकटगण्ड्शैलोन्न्ता ।

सघोषगति दन्तुरा समधिरूढदोलोत्तमा
मुकुन्दरतिवर्द्धिनी जयति पद्मबन्धोः सुता ॥२॥

भुवं भुवनपावनीमधिगतामनेकस्वनैः
प्रियाभिरिव सेवितां शुकमयूरहंसादिभिः ।

तरंगभुजकंकण प्रकटमुक्तिकावाकुका-
नितन्बतटसुन्दरीं नमत कृष्ण्तुर्यप्रियाम ॥३॥

अनन्तगुण भूषिते शिवविरंचिदेवस्तुते
घनाघननिभे सदा ध्रुवपराशराभीष्टदे ।

विशुद्ध मथुरातटे सकलगोपगोपीवृते
कृपाजलधिसंश्रिते मम मनः सुखं भावय ॥४॥

यया चरणपद्मजा मुररिपोः प्रियं भावुका
समागमनतो भवत्सकलसिद्धिदा सेवताम ।

तया सह्शतामियात्कमलजा सपत्नीवय-
हरिप्रियकलिन्दया मनसि मे सदा स्थीयताम ॥५॥

नमोस्तु यमुने सदा तव चरित्र मत्यद्भुतं
न जातु यमयातना भवति ते पयः पानतः ।

यमोपि भगिनीसुतान कथमुहन्ति दुष्टानपि
प्रियो भवति सेवनात्तव हरेर्यथा गोपिकाः ॥६॥

ममास्तु तव सन्निधौ तनुनवत्वमेतावता
न दुर्लभतमारतिर्मुररिपौ मुकुन्दप्रिये ।

अतोस्तु तव लालना सुरधुनी परं सुंगमा-
त्तवैव भुवि कीर्तिता न तु कदापि पुष्टिस्थितैः ॥७॥

स्तुति तव करोति कः कमलजासपत्नि प्रिये
हरेर्यदनुसेवया भवति सौख्यमामोक्षतः ।

इयं तव कथाधिका सकल गोपिका संगम-
स्मरश्रमजलाणुभिः सकल गात्रजैः संगमः ॥८॥

तवाष्टकमिदं मुदा पठति सूरसूते सदा
समस्तदुरितक्षयो भवति वै मुकुन्दे रतिः ।

तया सकलसिद्धयो मुररिपुश्च सन्तुष्यति
स्वभावविजयो भवेत वदति वल्लभः श्री हरेः ॥९॥

॥ इति श्री वल्लभाचार्य विरचितं यमुनाष्टकं सम्पूर्णम ॥

यमुना अष्टक का पाठ हमें भक्ति के मार्ग पर ले जाता हैं। वैष्णो जानो का मानना हैं की यदि Yamuna Ashtak का पाठ 1 माह तक किया जाएँ तो गिरिराज महाराज के समीप यमुना दर्शन के योग बन जाते हैं।

Giriraj Chalisa 

Ujjain 84 Mahadev

धर्मकहानी :- धर्म कहानी पर हम धर्म से जुडी जानकारी आपके साथ साझा करते हैं। यह सत्य कोई नहीं नकार सकता की इस कलयुग में भक्ति ही एक ऐसा मार्ग है जो हमें मुक्ति दिला सकता हैं इसीलिए हम सनातन धर्म की रक्षा के लिए आपके साथ भगवान की लीलाये , चालीसा , आरती तथा कहानियाँ साझा करते हैं। यदि आप भी धर्म से जुडी कोई जानकारी जानना चाहते हैं कमेंट में जरूर बताये।

दोस्तों, इस उम्मीद है आपको इस आर्टिकल से यमुनाअष्टक (Yamuna Ashtak ka Path) & स्तुति पढ़ने के लाभ की जानकारी जरुर मिली होगी। अगले आर्टिकल में हमने खाटू श्याम चालीसा (Khatu Shyam Chalisa) का वर्णन किया है। कृपया आप उसे भी जरूर रीड करे।

Disclaimer: यह जानकारी इंटरनेट सोर्सेज के माध्यम से ली गयी है। जानकारी की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। धर्मकहानी का उद्देश्य सटीक सूचना आप तक पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता सावधानी पूर्वक पढ़ और समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इस जानकारी का उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी। अगर इसमें आपको कोई गलती लगाती है तो कृपया आप हमें हमारे ऑफिसियल ईमेल पर जरूर बताये।

चेक फेसबुक पेज

बहुत- बहुत धन्यवाद

3 thoughts on “Yamuna Ashtak 2024 : यमुना अष्टक का पाठ करने से होंगे ये फायदे जाने महत्त्व !

  1. Pingback: Yamuna Aarti 2023 : यमुना जी की आरती करने से होंगे ये फायदे जाने महत्त्व ! - Dharmkahani

  2. Pingback: Shri Lakshmi Narsingh Stotra 2023 : श्री लक्ष्मी नृसिंह स्तोत्र का पाठ क्यों करें जाने महत्त्व।  - Dharmkahani

  3. Pingback: Shri Khatu Shyam Stuti 2023 : श्री खाटू श्याम स्तुति  का पाठ क्यों करें जाने महत्त्व।  - Dharmkahani

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *