भगवान तिरुपति बालाजी की कहानी – The Tirupati Balaji Story In Hindi

By | April 16, 2024
Tirupati Balaji Story In Hindi

Tirupati Balaji Story in Hindi : आज हम आपको भारत के सबसे अमीर मंदिरों में से एक तिरुपति बालाजी मंदिर( Tirupati Balaji Temple) के बारे में बताने जा रहे हैं। तिरुपति बालाजी ( Tirupati Balaji) विश्व के सबसे प्रतिष्ठित देवताओं में से एक है। तिरुपति बालाजी मंदिर (Tirupati Balaji Mandir) के बारे में कहा जाता है कि यहां पर दुनिया में सबसे अधिक दान दिया जाता है।

जानें तिरुपति बालाजी की कहानी – Tirupati Balaji Story in Hindi

एक समय में हिरण्याक्ष ने पृथ्वी को समुद्र में छिपा दिया तब ब्रम्हा के नाक से भगवान विष्णु ने वराह रूप में अवतार लिया। उनका यह रूप देख कर सभी ऋषि मुनियों ने भगवान की स्तुति की। सबकी प्रार्थना से प्रसन्ना होकर भगवान वराह ने पृथ्वी को ढूंढना प्रारंभ किया। अपनी थूथनी का उपयोग कर उन्होंने पृथ्वी का पता लगा लिया और समुद्र के अंदर जाकर अपने दांतों और थूथनी के बीच में रखकर वे पृथ्वी को बाहर ले आए।

जब हिरण्याक्ष ने यह देखकर भगवान विष्णु के वराह रूप को युद्ध के लिए ललकारा। दोनों में बहुत भीषण युद्ध हुआ। अंत में भगवान वराह ने हिरण्याक्ष राक्षस का वध कर दिया। इसके बाद भगवान वराह ने अपने खुरों से जल को स्तंभित कर उस पर पृथ्वी को स्थापित कर दिया। इस घटना के बाद आदि वराह ने लोगों के कल्याण के लिए पृथ्वी लोक में रहने का फैसला किया। भगवान ब्रम्हा के अनुरोध के अनुसार, आदि वराह ने एक रचना का रूप धारण किया और अपने बेहतर आधे (4 हाथों वाले भूदेवी) के साथ कृदचला विमना पर निवास किया और लोगों को ध्यान योग और कर्म योग जैसे ज्ञान और वरदान देने का फैसला किया।

तिरुपति बालाजी के रहस्य – Tirupati Balaji Facts

कलियुग के प्रारंभ में भी भगवान आदि वराह वेंकटाद्री को छोड़कर अपने स्थायी आराध्य वैकुंठ चले गए। जिससे भगवान ब्रम्हा बहुत चिंतित थे और उन्होंने नारद से कुछ करने को कहा, क्योंकि भगवान ब्रम्हा चाहते थे कि भगवान विष्णु का अवतार पृथ्वी पर हो। उसके बाद नारद गंगा नदी के तट पर गए जहां ऋषियों का समूह भ्रमित था और यह तय नहीं कर पा रहा था कि उनके यज्ञ का फल भगवान, ब्रम्हा, भगवान शिव और भगवान विष्णु में किसे मिलेगा।

इसके समाधान के रूप में नारद ने ऋषि भृगु को तीनों सर्वोच्च देवताओं का परीक्षण करने का विचार दिया। ऋषि भृगु ने प्रत्येक भगवान के पास जाने और उनकी परीक्षा लेने का फैसला किया। लेकिन जब वह भगवान ब्रम्हा और भगवान शिव के पास गए तो उन दोनों ने ऋषि भृगु पर ध्यान नहीं दिया जिससे ऋषि भृगु नाराज हो गए। अंत में वह भगवान विष्णु के पास गए और उन्होंने भी ऋषि भृगु पर ध्यान नहीं दिया, इससे ऋषि क्रोधित हो गए और उन्होंने भगवान विष्णु की छाती पर लात मार दी। क्रोधित होने के बावजूद भगवान विष्णु ने ऋषि के पैर की मालिश की और पूछा कि उन्हें चोट लगी है या नहीं। इसने ऋषि भृगु को जवाब दिया और उन्होंने निर्णय लिया कि यज्ञ का फल हमेशा भगवान विष्णु को समर्पित होगा।

क्या आज भी धड़कता है श्रीकृष्ण का दिल? हैरान कर देंगे भगवान जगन्नाथ के रहस्य…

लेकिन भगवान विष्णु की छाती पर लात मारने की इस घटना ने माता लक्ष्मी को क्रोधित कर दिया, वह चाहती थीं कि भगवान विष्णु ऋषि भृगु को दंडित करें, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। परिणामस्वरूप उन्होंने वैकुंठ को छोड़ दिया और तपस्या करने के लिए धरती पर आ गई और करवीरापुरा (जिसे अब महाराष्ट्र में कोल्हापुर के रूप में जाना जाता है) में ध्यान करना शुरू कर दिया।

भगवान विष्णु माता लक्ष्मी जी के वेकुंड छोड़कर जाने पर बहुत दुखी थे और उन्होंने माता लक्ष्मी की खोजना के लिए एक दिन वैकुंठ को छोड़ दिया और विभिन्न जंगलों और पहाड़ियों में माता लक्ष्मी की खोज में भटकने लगे भटक। लेकिन उसके बाबजूद भी माता लक्ष्मी को खोज नही पा रहे थे और परेशान होकर भगवान विष्णु जी वेंकटाद्री पर्वत में एक चींटी के आश्रय में विश्राम करने लगे।

जानिये भगवान विष्णु के दशावतार की कहानी

भगवान विष्णु को परेशान देखकर भगवान शिव और भगवान ब्रम्हा ने भगवान विष्णु की मदद करने का फैसला किया। इसलिए वे गाय और बछड़े का रूप लेकर माता लक्ष्मी के पास गए। देवी लक्ष्मी ने उन्हें देखा और सत्तारूढ़ चोल राजा को सौंप दिया। लेकिन वह गाय सिर्फ श्रीनिवास को दूध देती थी जिस कारण चरवाहे ने उस गाय को मारने की कोशिश की और भगवान विष्णु जी के रूप श्रीनिवास के चरवाहे पर हमला करके गाय को बचाया। इससे क्रोधित होकर उन्होंने चोल राजा को एक राक्षस के रूप में जन्म लेने का श्राप दे दिया। राजा की दया की प्रार्थना सुनकर, श्रीनिवास ने कहा कि राजा को मोचन तब मिलेगा जब वह अपनी बेटी पद्मावती का विवाह श्रीनिवास के साथ करेंगे।

माना जाता है जब विवाह होने वाला तो देवी लक्ष्मी ने इस बारे में सुना और विष्णु का सामना किया। जिसके बाद भगवान् विष्णु और लक्ष्मी जी एक दूसरे से लिपट गये और तब पत्थर में बदल गए। इसके बाद ब्रह्मा और शिव ने हस्तक्षेप किया और उनके इस अवतार के मुख्य उद्देश्य से अवगत कराया। इसके बाद कलियुग के कष्टों से लोगों को बचाने के लिए भगवान् विष्णु जी ने अपने आपको वेंकटेश्वर रूप को तिरुपति माला पर्वत पर स्थापित किया जिन्हें आज पूरे विश्व में तिरुपति बालाजी के नाम से जाना जाता है।

Jagannath Rathatra 2023 : जगन्नाथ रथयात्रा पर पढ़े भगवान जगन्नाथ की कथा

दोस्तों, इस कहानी को ३ भागो में आप अलग कर सकते है। जैसे वराह अवतार की कहानी, लक्ष्मीजी – विष्णुजी की कहानी और वेंकटेश्वरा की अवतार कि कहानी। आप हमें जरूर बताये की आपको ये कहानी कैसी लगी।

दोस्तों, इस उम्मीद है आपको इस आर्टिकल से तिरुपति बालाजी मंदिर (Tirupati Balaji Story in Hindi) & स्तुति पढ़ने के लाभ की जानकारी जरुर मिली होगी। अगले आर्टिकल में हमने खाटू श्याम चालीसा (Khatu Shyam Chalisa) का वर्णन किया है। कृपया आप उसे भी जरूर रीड करे।

Disclaimer: यह जानकारी इंटरनेट सोर्सेज के माध्यम से ली गयी है। जानकारी की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। धर्मकहानी का उद्देश्य सटीक सूचना आप तक पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता सावधानी पूर्वक पढ़ और समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इस जानकारी का उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी। अगर इसमें आपको कोई गलती लगाती है तो कृपया आप हमें हमारे ऑफिसियल ईमेल पर जरूर बताये।

चेक फेसबुक पेज

बहुत- बहुत धन्यवाद

3 thoughts on “भगवान तिरुपति बालाजी की कहानी – The Tirupati Balaji Story In Hindi

  1. Pingback: तिरुपति बालाजी के रहस्य – Tirupati Balaji Facts - Dharmkahani

  2. Pingback: Jagannath Temple : क्या आज भी धड़कता है श्रीकृष्ण का दिल? हैरान कर देंगे भगवान जगन्नाथ के रहस्य... - Dharmkahani

  3. Pingback: Hanuman Chalisa : पढ़े हनुमान चालीसा और होने लाभ! Dharmkahani

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *