Shani Dev Ki Aarti : शनिदेव की आरती संग्रह और महत्व

By | April 16, 2024
shani dev ki aarti aur mahatva shani dev ki aarti kaise kare

Shani Dev Ki Aarti : जैसा की हम सभी लोग जानते है की शनिवार का दिन सूर्यपुत्र शनिदेव को समर्पित है। धर्म शास्त्रों के अनुसार शनिदेव को न्याय का देव कहते हैं। शनिदेव हमेशा मनुष्य और देवताओं के साथ उनके कर्मो के अनुसार ही न्याय करते हैं।

अगर कोई शनिदोष से ग्रसित हैं या किसी पर साढ़े साती चल रही है तो उस व्यक्ति को शनिदेव की नियमित पूजा करनी चाहिए क्योंकि ऐसा करने से उस मनुष्य सारे कष्टों का निवारण हो जाएगा भगवान शनि की कृपा से ।

इसलिए यहां हम आपके लिए अपने इस आर्टिकल में शनिदेव की आरती (Shani Dev Ki Aarti) लिख रहे है, जिसको आपको शनिवार के दिन यह आरती (Shaniwar Shani Dev Ki Aarti) जरूर करनी चाहिए, ऐसा करने से जीवन शनि देव जीवन के सारे विकारों को हर लेंगे है।

Hanuman Chalisa : पढ़े हनुमान चालीसा और होने लाभ!

Shani Dev Ki Aarti :

।। शनिदेव की आरती ।।

1- जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी।
सूरज के पुत्र प्रभु छाया महतारी॥
जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी॥
श्याम अंग वक्र-दृष्टि चतुर्भुजा धारी।

2- निलाम्बर धार नाथ गज की असवारी॥
जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी॥
क्रीट मुकुट शीश सहज दिपत है लिलारी।

3- मुक्तन की माल गले शोभित बलिहारी॥
जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी॥
मोदक और मिष्ठान चढ़े, चढ़ती पान सुपारी।

4- लोहा, तिल, तेल, उड़द महिषी है अति प्यारी॥
जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी॥
देव दनुज ऋषि मुनि सुमिरत नर नारी।
विश्वनाथ धरत ध्यान हम हैं शरण तुम्हारी॥
जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी॥

Ganesh Chalisa : पढ़ें श्री गणेश चालीसा और होने वाले लाभ

Shani Dev Ki Aarti & Pujan Benefits: शनिदेव की आरती व पूजन महत्व

देवो के देव शनिदेव की महिमा ही अपरम्पार हैं जहाँ लोग इनके क्रोध से डरते हैं शनिदेव के आशीर्वाद से अनभिज्ञ हैं शनिदेव जब आशीर्वाद देते सभी बिगड़े बना देते हैं इसीलिए शनिदेव की आरती पूजन करना चाहिए जिससे सभी शनिदेव का आशीष बना रहें।

Sani Dev Pujan Benefits : शनि देव पूजन लाभ

शनिदेव के पूजन (Shani Dev Ki Aarti, Pujan)करने के कोई विशेष नियम नहीं हैं। शनिदेव को ईमानदारी व सच्चे मन से जो भक्त पूजन और अर्चना करते हैं उनपर शनिदेव अपनी कृपा दृष्टि डालते हैं। शनिदेव की साढ़ेसाती या शनिदोष होने पर घबराना नहीं चाहिए सच्चे दिल से शनिदेव की आरती (Shani Dev Ki Aarti), पूजन करना चाहिए।

जीवन में आयी सभी परेशानियों से मुक्ति मिलती हैं और सुख , समृद्धि जीवन में दस्तक देती हैं।

Shani Dev Ki Aarti, Pujan :शनिदेव के पूजन से जुड़े सवाल

शनि देव के पूजन में कौन सा फूल चढ़ाना चाहिए ?

शनिदेव के पूजन में मदार का फूल या अकाव का पुष्प अर्पित करने से शनि देव प्रसन्न हो जाते हैं। यदि शनि देव के पसंदीदा पेड़ की बात करें तो शमी का पेड़ हैं।

शनिदेव की साढ़ेसाती या शनिदोष होने पर शनिवार का व्रत रखना चाहिए ?

शनिवार का दिन शनि देव को प्रिय हैं इसलिए जब शनिवार के दिन व्रत ,पूजन, आरती की जाती हैं प्रसन्न हैं। और शनिदेव की साढ़ेसाती या शनिदोष का प्रभाव कम हो जाता हैं।

शनिदेव का पूजन कड़े होकर या बैठ कर करना चाहिए ?

शनिदेव की अर्चना, आरती व पूजन सामने खड़े होकर नहीं करना चाहिए।

शनिदेव को प्रसन्न करने का उपाय

शनिदेव प्रसन्न करने के लिए पीपल और शमी के वृक्ष की पूजन करना चाहिए।

शनिवार के दिन चमड़े के जूते चप्पल दान करने से क्या हैं ?

शनिवार के दिन चमड़े के जूते चप्पल दान करने से पुरानी पनोती दूर हैं। यदि शनिवार के दिन चमड़े के जूते चप्पल दान किया जाये तो इसे अच्छा माना जाता हैं शनिदेव का आशीर्वाद भी प्राप्त होता हैं।

शनिदेव की पूजा किस दिन और कितने बजे करना होता है शुभ?

शनिदेव की पूजा सूर्योदय के पहले और सूर्यास्त के बाद करना करना चाहिए। इस समय पर पूजन करने शनि देव खुश होते हैं।

शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए मंत्र ?

शनिदेव को प्रसन्न करने लिए मंत्र ॐ निलान्जन समाभासं रविपुत्रं यमाग्रजम। छायामार्तंड संभूतं तं नमामि शनैश्चरम॥

शनिदेव की आरती (Sani Dev ki aarti) कब करना चाहिए ?

शनिदेव की आरती (Sani Dev ki aarti) सम्पूर्ण पूजन कर के करना चाहिए।

दोस्तों, इस उम्मीद है आपको इस आर्टिकल से शनिदेव की आरती (Shani Dev Aarti) & स्तुति पढ़ने के लाभ की जानकारी जरुर मिली होगी। अगले आर्टिकल में हमने खाटू श्याम चालीसा (Khatu Shyam Chalisa) का वर्णन किया है। कृपया आप उसे भी जरूर रीड करे।

Disclaimer: यह जानकारी इंटरनेट सोर्सेज के माध्यम से ली गयी है। जानकारी की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। धर्मकहानी का उद्देश्य सटीक सूचना आप तक पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता सावधानी पूर्वक पढ़ और समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इस जानकारी का उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी। अगर इसमें आपको कोई गलती लगाती है तो कृपया आप हमें हमारे ऑफिसियल ईमेल पर जरूर बताये।

चेक फेसबुक पेज

बहुत- बहुत धन्यवाद

2 thoughts on “Shani Dev Ki Aarti : शनिदेव की आरती संग्रह और महत्व

  1. Pingback: Pashupatinath Vrat Aarti 2023 : पशुपति व्रत की आरती - Dharmkahani

  2. Pingback: Yamuna Aarti 2023 : यमुना जी की आरती करने से होंगे ये फायदे जाने महत्त्व ! - Dharmkahani

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *